भारतीय कबड्डी टीम के पूर्व कप्तान अजय ठाकुर पर लगा बैन | Kabaddi player Ajay Thakur banned by Nada


भारतीय कबड्डी टीम (Indian Kabaddi Team) के कप्तान रहे और एशियाई गेम्स में भारत को गोल्ड दिलवाने वाले हिमाचल के अर्जुन अवार्ड विजेता अजय ठाकुर (Ajay Thakur) पर नाडा नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी (नाडा) ने अस्थाई प्रतिबंध लगाया है. नाडा को रजिस्टर्ड खिलाड़ियों को साल में चार बार अपना पता देना होता है, लेकिन अजय ठाकुर ऐसा करने में असफल रहे हैं. इसके चलते डोपिंग टेस्ट (Dope Test) नहीं हो पाए हैं और नाडा (NADA) ने अजय पर अस्थाई बैन लगा दिया है. सूत्रों की मानें तो अजय ठाकुर तीन बार को नाडा ने नोटिस जारी किए थे, लेकिन अजय ने नोटिसों का जवाब नहीं दिया, और अब नाडा ने अजय ठाकुर पर अस्थाई तौर बैन लगा दिया है. अब अजय ठाकुर को एंटी डोपिंग सुनवाई पैनल के समक्ष प्रस्तुत होने को कहा गया है.


क्या बोले अजय ठाकुर
सोलन में स्टार कबड्डी खिलाड़ी अजय ठाकुर ने सफाई देते हुए कहा कि वह पुलिस में अपनी सेवाएं दे रहे हैं. सेवा के दौरान लगातार कई बार तबादले हुए हैं और इस वजह से वह अपना स्थाई पता नाडा को नहीं दे पाए. अर्जुन अवार्डी अजय ठाकुर ने कहा कि क्योंकि तबादलों के कारण वह एड्रैस नहीं दे पआए और इस कारण नाडा को शक हुआ कि वह डोपिंग टेस्ट से बचने के कारण अपना पता बदल रहे हैं. उन्होंने सभी कागज़ एकत्र कर लिए है और 20 अप्रेल को वह एंटी डोपिंग सुनवाई पैनल के समक्ष पेश होंगे. अजय ने कहा कि अजय ठाकुर किसी भी डोपिंग टेस्ट से न डर रहा है और न ही बच रहा है. वह केवल पुलिस अधिकारी का कर्तव्य निभा रहे हैं. उन्होंने नाडा को यह भी आग्रह किया है कि वह उनके बारे में प्रदेश के मुख्यमंत्री और उच्च अधिकारियों से भी जानकारी हासिल कर सकते हैं. वह नशे के बिलकुल खिलाफ हैं और यहाँ तक की शरीर को गर्म करने के लिए मूव तक नहीं लगाते हैं.